4/28/2011

.मत पूछो ये मुझसे की कब याद आते हो..........

Blogvani.com
मत पूछो ये मुझसे की कब याद आते हो,

जब-जब साँसे चलती है बहुत याद
आते हो |

नींद में पलकें होती हैं जब भी भरी,

बनके ख्वाब
बार-बार नज़र आते हो|

महफिल में शामिल होते हैं हम जब भी,

भीड़
की तन्हाइयों में हरबार नज़र आते हो|

जब भी सोचा की फासला रखूँ मैं
तुमसे,

ज़िन्दगी बनके साँसों में समां जाते हो|

खुद को तूफ़ान
बनाने की कोशिश तो की,

बनके साहिल अपनी आगोश में समा जाते हो|

चाह
ना था मैंने इस पहेली में उलझना,

हर उलझन का जबाव बनके उभर आते हो|

सूरज
की रौशनी, चंदा की चाँदनी,

आसमान को देखता हूँ मैं जब-जब,

तुम्हारी
कसम बहुत-बहुत याद आते हो|

अब ना पूछो मुझसे की कब-कब याद आते हो........

8 टिप्‍पणियां:

  1. भावों को खूबसूरती से प्रेषित किया है ..



    कृपया टिप्पणी बॉक्स से वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ..

    चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 03- 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. किस - किस तरह से तुम याद आते हो ...
    सुन्दर गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूरज
    की रौशनी, चंदा की चाँदनी,

    आसमान को देखता हूँ मैं जब-जब,

    तुम्हारी
    कसम बहुत-बहुत याद आते हो|

    Ashok ji , I am amazed` at your writing skills .

    Best wishes.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  5. khud ko tufan banane ki kosish..........

    bahot acchi pankti

    उत्तर देंहटाएं
  6. yaad aana uska bhoolne nahi deta
    yaad aana uska kuchh aur yaad aane nahi deta.

    sunder abhivyakti.

    उत्तर देंहटाएं